कोविड काल में वायु प्रदूषण की चुनौतियों पर हुई चर्चा

दिल्ली : इंडियन मेडिकल एसोसीएशन की पूर्वी दिल्ली शाखा, इंडियन फेडरेशन ऑफ यूनाइटेड नेशन्स एसोसिएशन, रिवर इंजीनियरिंग के मेडिकल इलेक्ट्रॉनिक्स संभाग और जस्टिस फ़ॉर एयर के संयुक्त तत्वावधान में ‘कोविड काल और वायु प्रदूषण की चुनौतिया’ विषय पर एक सेमिनार का आयोजन किया गया।

आयोजन के दौरान स्वास्थ्य साक्षरता व वायु प्रदूषण की गंभीर चुनौती के दौर में स्वास्थ्य जागरूकता के संबंध में चर्चा की गई। चर्चा के दौरान कोविड काल और उसके बाद की परिस्थितियों में स्वच्छ वायु की महत्ता, वायु-प्रदूषण से सुरक्षा और इसमें उपयोगी एयर प्यूरीफायर सिस्टम की भी बात हुई।

विख्यात चिकित्सकों, प्रौद्योगिकी विशेषज्ञों, प्रबुद्ध नागरिकों, समाजसेवियों एवं विविध क्षेत्रों के बुद्धिजीवियों की उपस्थिति में वायु प्रदूषण के मौजूदा और भावी चुनौतियों की स्थिति पर सार्थक संवाद और विमर्श हुआ।

ध्यान रहे, अनेक वैज्ञानिक अध्ययन में बताया गया है कि दिल्ली-एनसीआर सहित अनेक महानगरों व दूसरे शहरों में 'फेफड़े की गंभीर समस्याओं' से पीड़ित लोगों, बच्चों की संख्या चिंताजनक है।

उपस्थित विशेषज्ञ चिकित्सकों ने बताया कि कोविड काल के अनुभवों को देखते हुए स्वास्थ्य को लेकर हर नागरिक को साक्षर होना होगा और प्रकृति के सामंजस्य रखते हुए जीवन शैली रखनी होगी। इस अवसर पर विशेषज्ञों ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानक और दिशानिर्देशों के अनुरूप निर्मित उच्च तकनीकी और चिकित्सा उपकरण पेट्रिमेड सीए को फेफड़े की सुरक्षा के लिए अपनाने की राय दी।

आयोजन में मशहूर बॉलीवुड अभिनेत्री पूजा बिष्ट भी मौजूद रहीं। इनके अलावा, रिवर इंजीनियरिंग के चेयरमैन डॉ. एके अग्रवाल,  इंडियन मेडिकल एसोसिएशन, पूर्वी दिल्ली के अध्यक्ष डॉ. गौतम सिंह,  इंडियन फेडरेशन ऑफ यूनाइटेड नेशन्स एसोसीएशन से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार दीपक पर्वतियार, डॉ. कुमार गांधी, डॉ. छवि गुप्ता, डॉ. हरीश गुप्ता, डॉ. सुनील सिंघल, नीरा अग्रवाल, अंकुर अग्रवाल, नीरज कायस्थ आदि ने कार्यक्रम में सक्रिय भागीदारी की। 


Related Items

  1. रिवर कनेक्ट कैंपेन ने प्रस्तावित हथिनी कुंड बांध निर्माण का किया विरोध

Popular Posts