मरीजों की देखभाल में लापरवाही, कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं

फतेहाबाद : हरियाणा के फतेहाबाद जिले से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। जिले के नागरिक अस्पताल के कोविड वार्ड में भर्ती मरीजों को जूनियर स्टाफ द्वारा डराए- धमकाए जाने की खबर है।

दरअसल, महामारी के चलते कई मरीज जिला के सिविल अस्पताल में भर्ती थे। बताया गया है कि यहां आउटसोर्सिंग जीएनएम के पद पर काम कर रहे दो कर्मचारियों ने मरीजों को डराना-धमकाना शुरू कर दिया। पवन और कुश नाम के इन कर्मचारियों के गैर-जिम्मेदाराना रवैये के चलते कई मरीजों की हालत और जायदा बिगड़ गई। इनमें से एक मरीज अनिल की मौत भी हो गई।

मरने से पहले उक्त मरीज ने अपने परिजनों को कॉल करके जूनियर स्टाफ के दुर्व्यवहार और लापरवाही के बारे में जानकारी दी थी। इस आधार पर कॉल रिकॉर्डिंग व अन्य सबूतों के आधार पर परिजनों की तरफ से सीएम कार्यालय में शिकायत कर दी गई। लेकिन, औपचारिक जांच के बाद दोनों कर्मचारियों से महज एक लिखित माफीनामा लेकर मामले को रफा-दफा करने की कोशिश की गई। अभी तक आरोपी कर्मचारियों के खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई नही की गई है। ध्यान रहे, इन कर्मचारियों पर पूर्व में लापरवाही के आरोप लगते रहे हैं।

मृतक के परिजनों ने उच्चाधिकारियों से न्याय की गुहार लगाई है।


Related Items

  1. डायबिटीज रोगियों की देखभाल को गांव-गांव पहुंचेगा एडीएफ

  1. गलत जीवनशैली, खान-पान और मोटापा बढ़ा रहा डायबिटीज के मरीज

  1. कोविड काल में वायु प्रदूषण की चुनौतियों पर हुई चर्चा