मध्य प्रदेश में आदिवासी उत्थान को स्फीहा की पहल

आगरा : गैर सरकारी संस्था स्फीहा ने मध्य प्रदेश के हरदा जिले में आदिवासियों के उत्थान के लिए एक प्रशिक्षण और सूचना शिविर का आयोजन किया। इसी क्रम में संगठन के अधिकारी और स्वयंसेवकों ने भूजल और सौर ऊर्जा विशेषज्ञों की एक टीम के साथ टेमरूबहार, गोलर्धाना और मोगराधना गांवों में निरीक्षण और सर्वेक्षण का कार्य किया।

क्षेत्र में पानी की कमी और सड़कों पर रात को रोशनी न होने के कारण काफी समस्याएं है। स्फीहा द्वारा इन समस्याओं का वैज्ञानिक तरीकों से समाधान करने की कोशिश की जा रही है।

केंद्रीय भूजल बोर्ड के उपग्रह मानचित्रों के मदद से भूजल के स्रोत और जल पुनर्भरण की विस्तृत योजना बनाने का प्रयास किया जा रहा है, जिससे इस समस्या का एक स्थायी निस्तारण हो सके। विशेषज्ञों की टीम द्वारा आठ गावो में सोलर स्ट्रीट लाइट के लिए स्थलों की भी पहचान की गई है और स्फीहा ने अगले दो महीने के अंदर इन लाइटों को लगाने की योजना बनाई है। पशुओं से स्वास्थ्य और दूध की उपज में सुधार के लिए एजोला खेती का प्रदर्शन भी किया गया और तीन गांवों में एजोला की खेती शुरू की गई। इस पहल की ग्रामीणों ने भी बहुत सराहना की।

इस दौरान रामकिशन धुर्वे, मनोज धुर्वे, नानक धुर्वे व सुभेदार धुर्वे आदि इस कार्य में सहायक रहे। स्फीहा के पदाधिकारियों में संदीप कालरा और शब्द मिश्रा मौजूद रहे।


Related Items

  1. राज्य क्षय रोग प्रशिक्षण व प्रदर्शन केन्द्र में हुआ नई मशीन का उद्घाटन

  1. पर्यावरण संरक्षण में जुटी संस्था ने लगाए 15 हजार पौधे

  1. स्वैच्छिक रक्तदान शिविर का हुआ आयोजन

Popular Posts