प्रकृति के नजदीक रहेंगे तो रोग आपसे होंगे दूर

आगरा : धरती पर जितने भी जीव हैं, इनमें सिर्फ इंसान ही है जो भोजन को पकाकर खाता है। इसी का नतीजा है कि वह बीमारियों और दवाओं से घिरा रहता है। जितना प्रकृति के नजदीक रहेंगे, बीमारियां आपसे उतनी ही दूर रहेंगी।

दवाओं के माध्यम से आप जितने भी सप्लीमेंट लेते हैं, वे सब आपके भोजन में पहले से ही मौजूद हैं। अपने भोजन की पौष्टिकता को नष्ट किए बिना, संतुलित मात्रा और दवा के रूप में खाएंगे तो जीवन में कभी किसी दवा की जरूरत नहीं पड़ेगी।

सिर्फ खाने के माध्यम से स्वस्थ और निरोग रहने के लिए ऑनलाइन शिक्षा देकर हजारों लोगों को रोग मुक्त कर चुके देशयोग चैरिटेबिल ट्रस्ट के संस्थापक व दूर संचार मंत्रालय के निदेशक सुभाष देशयोगी शहरवासियों से रू-ब-रू हुए। शमशाबाद रोड स्थित मारुति फॉरेस्ट के कम्युनिटी हॉल में आयोजित व्याख्यान में उन्होंने बताया कि जीवन ही जीवन को पोषण दे सकता है जबकि हम स्वाद के लिए मृत भोजन खाते हैं और बीमारियों को न्यौता देते हैं।

बच्चों, युवाओं, महिलाओं और बुजुर्गों को योग और सही खान-पान की शिक्षा से लेकर अपनी संस्कृति, संस्कार और सभ्यता से परिचित कराने का काम कर रहे सुभाष देशयोगी कहते हैं कि उनका उद्देश्य लोगों को दवाओं से दूर और निरोग रखना है।

इस अवसर पर डायबिटीड व कॉलेस्ट्रोल जैसी समस्याओं से निजात पा चुके लोगों ने अपने अनुभव भी साझा किए।


Popular Posts